Poems

काली

पूछो काली रतियों से, वो रंग कहाँ से लाती हैं ? क्या छू कर तेरे कजरे को श्याम रंग हो जाती हैं ? ज़ुल्फ़ घनेरे मेलों में, वो बच्चों सी खो जाती हैं या रजनीगंधा के उबटन से, तन अपना…

Continue Reading